- Advertisement -
HomeHistoryराजस्थान में प्रजामण्डल आंदोलन (Rajasthan Me Prajamandal Andolan)
- Advertisement -

राजस्थान में प्रजामण्डल आंदोलन (Rajasthan Me Prajamandal Andolan)

- Advertisement -
- Advertisement -
Telegram Group Join Now
- Advertisement -
WhatsApp Group Join Now
- Advertisement -

प्रजामण्डल आंदोलन / प्रजापरिषद् आंदोलन / लोक परिषद आंदोलन/ Prajamandal Andolan

प्रजामण्डल आंदोलन / प्रजापरिषद् आंदोलन / लोक परिषद आंदोलन/ Prajamandal Andolan, Rajasthan ke Prajamandal Andolan, Prajamandal in Rajasthan, राजस्थान में प्रजामंडल आंदोलन

  • उत्तरदायी शासन लागू करवाने और उत्तरदायी शासन में जनता की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए जनता ने जो आंदोलन चलाया उसे प्रजामंडल आंदोलन कहते हैं।
  • दिसंबर, 1918 में दिल्ली के मारवाड़ी पुस्तकालय में राजपूताना मध्य भारत सभा की स्थापना होती है जिसका उद्देश्य था –
    1. कांग्रेस के सदस्य बनाना
    2. उत्तरदायी शासन लागू करवाना
  • इसके सदस्य थे –
    • अजमेर से चांदकरण शारदा
    • सीकर से जमनालाल बजाज जो इसका अध्यक्ष बनता है
    • कानपुर से गणेश शंकर विद्यार्थी जो इसका उपाध्यक्ष बनता है
    • बुलंदशहर (उत्तर प्रदेश) से विजय सिंह पथिक
  • सन् 1919 में वर्धा, महाराष्ट्र में पथिक द्वारा राजस्थान सेवा संघ की स्थापना होती है।
  • इस संघ का अध्यक्ष श्री विजय सिंह पथिक एवं मंत्री श्री राम नारायण चौधरी को बनाया जाता है।
  • सन् 1927 में मुंबई में अखिल भारतीय देसी राज्य लोक परिषद का अधिवेशन तथा स्थापना की गई थी जिसका अध्यक्ष से पंडित जवाहरलाल नेहरू को बनाया गया।
  • सन् 1938 में हरिपुरा कांग्रेस का अधिवेशन होता है, जिसका अध्यक्ष सुभाष चंद्र बोस को मनाया जाता है।
  • इस अधिवेशन में प्रजामंडल आंदोलन का प्रस्ताव पारित होता है

1. जयपुर प्रजामंडल  

  • जयपुर राज्य में सर्वप्रथम राजनैतिक चेतना की अलख अर्जुन लाल सेठी ने जगाई थी इसी कारण इन्हें राज जयपुर राज्य में जनजागृति का जनक कहते हैं।
  • सन् 1960 में अर्जुन लाल सेठी द्वारा जयपुर में जैन वर्धमान विद्यालय की स्थापना होती है। वास्तव में यह विद्यालय क्रांतिकारियों का प्रशिक्षण केंद्र था।
  • सन् 1921 में जमनालाल बजाज द्वारा रायबहादुर की उपाधि का त्याग किया जाता है।
  • सन 1927 में जमनालाल बजाज द्वारा जयपुर में चरखा संघ की स्थापना होती है।
  • सन् 1931 में कर्पूरचंद पाटनी के द्वारा जयपुर प्रजामंडल की स्थापना होती है। यह प्रजामंडल असफल रहता है तथा इस प्रजा मंडल का अध्यक्ष कपूरचंद पाटनी को ही बनाया जाता है।
  • सन् 1936 में जयपुर प्रजामंडल की पुनः स्थापना होती है और अध्यक्ष चिरंजीलाल मिश्र को बनाया जाता है।
  • सन् 1938 में जयपुर प्रजामंडल का अध्यक्ष बनाया जाता है
  • सन् 1940 में प्रजामंडल का अध्यक्ष हीरालाल शास्त्री बनता है।
  • सन् 1942 में जयपुर के पीएम मिर्जा इस्माइल खां तथा हीरालाल शास्त्री के मध्य जेंटलमैन एग्रीमेंट होता है।

इस एग्रीमेंट की शर्तें निम्न थी –
1. जयपुर की सरकार युद्ध में अंग्रेजों का साथ नहीं देगी।
2. प्रजामंडल अपने अधिकारों के लिए शांतिपूर्वक आंदोलन कर सकता है।
3. जयपुर प्रजामंडल भारत छोड़ो आंदोलन में भाग नहीं लेगा।

  • जयपुर प्रजामंडल का एक वर्ग ( जिसमें बाबा हरिश्चंद्र, रामकरण जोशी, हंस राय दौलतमंद भंडारी आदि शामिल थे ) उन्होंने 1942 में एक नए संगठन आजाद मोर्चा का गठन किया।
  • आजाद मोर्चा भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेता है।
  • सन् 1945 में पंडित नेहरू के प्रयासों से आजाद मोर्चे का जयपुर प्रजामंडल में विलय हो जाता है।
  • सन् 1946 में देवी शंकर तिवारी को मंत्री बनाया जाता है।
  • सन् 1946 ईस्वी में ही जयपुर प्रजामंडल अखिल भारतीय लोक परिषद का अंग बन गया। अब जयपुर प्रजामंडल जयपुर जिला कांग्रेस के नाम से जाना जाने लगा।

2. मारवाड़ प्रजामंडल  

  • सन् 1915 ईस्वी में मरुधर मित्र हितकारिणी सभा की स्थापना होती है।
  • सन् 1920 में मारवाड़ सेवा संघ की स्थापना होती है।
  • सन् 1923 में मारवाड़ हितकारिणी सभा की स्थापना होती है। इस के नेतृत्व में तोल आंदोलन चलाया गया।
  • सन् 1931 में जयनारायण व्यास के घर मारवाड़ यूथ लीग की स्थापना होती है।
  • नवंबर, 1931 में मारवाड़ राज्य लोक परिषद का पुष्कर में अधिवेशन होता है इसमें भाग लेने के लिए कस्तूरबा गांधी आती है।
  • प्रजामंडल आंदोलन के दौरान जय नारायण व्यास की पत्रिकाएं – पोपा बाई की पोल तथा मारवाड़ की अवस्था। 
  • सन् 1934 में मारवाड़ प्रजामंडल की स्थापना होती है। जिसका अध्यक्ष भंवरलाल सर्राफ को बनाया जाता है।
  • जयनारायण व्यास की सक्रियता के कारण इनका मारवाड़ से निष्कासन हो जाता है।
  • बीकानेर के गंगा सिंह की मध्यस्था से निष्कासन रद्द होता है ।
  • सन् 1936 में प्रजामंडल के नेताओं से मिलने पंडित नेहरू आते हैं।
  • सन् 1937 में मारवाड़ प्रजामंडल पर रोक लग जाती है।
  • सन 1938 में मारवाड़ प्रजामंडल के नेताओं से मिलने सुभाष चंद्र बोस और विजय लक्ष्मी पंडित आते हैं।
  • सन् 1939 में मारवाड़ में अकाल पड़ता है। जोधपुर के उम्मेद सिंह अकाल राहत कार्यों में 80 लाख रुपए खर्च करता है।
  • सन् 1941 में नगरपालिका के चुनाव होते हैं। जयनारायण व्यास अध्यक्ष चुने जाते हैं।
  • सन् 19 जून, 1942 को जोधपुर जेल में क्रांतिकारी बालमुकुंद बिस्सा की भूख हड़ताल से मृत्यु हो जाती है।
  • सन् 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान प्रजामंडल के नेताओं ने गिरफ्तारियां दी।

मारवाड़ प्रजामंडल से संबंधित पुस्तकें –
    1. संघर्ष क्यों?  –  लेखक – रणछोड़ गट्टानी
    2. उत्तरदायी शासन के लिए संघर्ष – लेखक – जयनारायण व्यास
    3. मारवाड़ प्रजामंडल परिषद क्या है? – लेखक – अभयमल जैन
    4. अखंड भारत –   जय नारायण व्यास का बम्बई से प्रकाशित समाचार पत्र।

3. मेवाड़ प्रजामंडल  

मेवाड़ प्रजामंडल के सक्रिय नेता –
               1. माणिक्य लाल वर्मा
               2. रमेश चंद्र शर्मा
               3. भूरेलाल बंया
               4. बलवंत सिंह मेहता
               5. नारायणी देवी वर्मा

  • प्रजामंडल आंदोलन के दौरान माणिक्य लाल वर्मा की पुस्तिका मेवाड़ में वर्तमान शासन बिकती है।
  • 24 अप्रैल 1938 को बलवंत सिंह मेहता के घर मेवाड़ प्रजामंडल की स्थापना होती है।
  • इसका अध्यक्ष बलवंत सिंह मेहता को बनाया जाता है और मंत्री माणिक्य लाल वर्मा को बनाया जाता है। जो इस का संस्थापक भी था।
  • मई 1938 में मेवाड़ प्रजामंडल पर रोक लग जाती है। प्रजामंडल का सदस्य भूरेलाल बंया को गिरफ्तार कर लिया जाता है।
  • सन् 1939 में मेवाड़ प्रजामंडल के नेता सत्याग्रह करते हैं।
  • 1939 में ही मेवाड़ में नारायणी देवी वर्मा के नेतृत्व में अकाल राहत समिति का गठन होता है।
  • सन् 1941 में मेवाड़ का P.M. सर. टी. विजय राघवाचार्य मेवाड़ प्रजामंडल से रोक हटा देता है।
  • सन् 1941 में मेवाड़ प्रजामंडल का अधिवेशन शाहपुरा की हवेली उदयपुर में होता है जिसके उद्घाटन में विजय लक्ष्मी पंडित और राजगोपालाचारी आते हैं।
  • सन् 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन के दौरान मेवाड़ प्रजामंडल के नेता मेवाड़ के महाराणा को अंग्रेजों से संबंध खत्म करने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम देते हैं।
  • आंदोलन के दौरान नेताओं ने गिरफ्तारियां दी।
  • माणिक्य लाल वर्मा को कुंभलगढ़ जेल में रखा गया।
  • भूरे लाल बंया को सराडा़ जेल में रखा गया। सराडा जेल को मेवाड़ का काला पानी कहते हैं।
  • 31 दिसंबर, 1945 से 1 जनवरी, 1946 में अखिल भारतीय देसी राज्य लोक परिषद् का छठा अधिवेशन उदयपुर में होता है
  • 1946 में के. एम. मुंशी मेवाड़ के लिए संविधान लिखता है।
  • मेवाड़ में उत्तरदायी शासन के लिए मुंशी योजना या धारा सभा का गठन किया गया।

4. बीकानेर प्रजामंडल  

नोट :-
बीकानेर रियासत राजपूताने की एकमात्र रियासत थी जहां तिरंगा फहराने, जय हिंद और वंदे मातरम बोलने और खादी प्रचार पर पूर्णतया रोक थी।
  • 26 जनवरी, 1930 को चूरू के धर्म स्तूप पर चंदनमल बहड़ और इसके साथी तिरंगा फहराते हैं। सभी गिरफ्तार हो जाते हैं।
  • बीकानेर का गंगा सिंह राजपूताने का एकमात्र शासक था जो लंदन में आयोजित तीनों गोलमेज सम्मेलन में भाग लेता है और स्वयं को आधुनिक और विकासशील शासक प्रस्तुत करता है।
  • तीनों गोलमेज सम्मेलन 1930, 1931 और 1932 में हुए। तीनों लंदन में आयोजित होते हैं।
  • अध्यक्ष –  रैम्जे मैकडोनाल्ड को बनाया जाता है
  • पीछे से प्रजामंडल के नेता बीकानेर रियासत में गंगा सिंह के विरुद्ध पर्चे बांटते हैं।
  • बीकानेर दिग्दर्शिका नामक पत्रिका बाँटी जाती है।
  • गंगा सिंह लंदन से वापस आकर सबको जेल में डाल देता है।
  • इस घटनाक्रम को बीकानेर षड्यंत्र के नाम से जाना जाता है।

प्रजामण्डल के सक्रिय नेता –

  1. मघाराम वेद
  2. लक्ष्मी देवी आचार्य
  3. वकील रघुवर दयाल गोयल
  4. चंदनमल बहड़
  • सन 1932 में बीकानेर सेफ्टी एक्ट लागू होता है।
    • इसमें बीकानेर की सुरक्षा के नाम पर जनता के लिए दमनकारी नीतियां थी।
    • इसे बीकानेर का काला कानून कहा जाता है।
  • सन् 1935 में कोलकाता में बीकानेर प्रजामंडल की स्थापना होती है। जिसका अध्यक्ष लक्ष्मी देवी आचार्य को बनाया जाता है।
  • कोलकाता से ही भीम शंकर शर्मा और साथी बीकानेर की थोथी पोथी नामक पत्रिका प्रकाशित करवाते हैं।
  • सन् 1936 में पुनः बीकानेर प्रजामंडल की स्थापना होती है। अध्यक्ष मघाराम वेद को बनाया जाता है।
  •  सन 1942 में वकील रघुवर दयाल गोयल द्वारा बीकानेर राज्य लोक परिषद की स्थापना होती है।
  •  रघुवर दयाल का बीकानेर से निष्कासन हो जाता है।
  • 23 जनवरी को बीकानेर में सुभाष चंद्र बोस जयंती मनाई जाती है।
  • 26 जनवरी को स्वतंत्रता दिवस मनाया जाता है।
नोट :-
स्वामी गोपाल दास द्वारा सन् 1913 में चूरू में सर्व हितकारिणी सभा की स्थापना की जाती है।

गोपाल दास द्वारा स्थापित अन्य संस्थान –
1. कबीर पाठशाला    
2. पुत्री पाठशाला

5. बूंदी प्रजामंडल  

  • सन् 1931 में बूंदी प्रजामंडल की स्थापना होती है।
  • अध्यक्ष कांतिलाल को बनाया जाता है।
  • सन् 1944 में ऋषि दत्त मेहता द्वारा बूंदी राज्य लोक परिषद की स्थापना होती है।
  • सन् 1944-1945 बूंदी प्रजामंडल के नेता बूंदी में जुलूस निकालते हैं गोलियां चला दी जाती है। वकील राम कल्याण शहीद हो जाता है।

6. कोटा प्रजामंडल  

  • कोटा में जन चेतना जगाने का श्रेय पंडित नयनू राम शर्मा को है।
  • सन् 1927 में पंडित नयनू राम शर्मा अखिल भारतीय देसी राज्य लोक परिषद के अधिवेशन में भाग लेते हैं।
  • सन् 1934 में नयनू राम शर्मा द्वारा हाड़ौती प्रजामंडल की स्थापना होती है।
  • सन् 1939 में कोटा प्रजामंडल की स्थापना होती है। ⚫️ अध्यक्ष नयनूराम शर्मा बनता है।
  • सन् 1939 में मांगरोल (बांरा) में कोटा प्रजामंडल का अधिवेशन होता है।
  • सन् 1941 में पंडित नयनू राम शर्मा की हत्या हो जाती है।
  • हत्या के बाद कोटा प्रजामण्डल का अध्यक्ष अभिन्न हरी को बनाया जाता है
  • कोटा में उत्तरदायी शासन के लिए हिरण्या समिति का गठन किया जाता है।

7. सिरोही प्रजामंडल  

  • सिरोही में जनचेतना जगाने का श्रेय गोकुल भाई भट्ट को है।
  • सन् 1935 में बम्बई में सिरोही प्रजामंडल के नेता प्रवासी सिरोही प्रजामंडल की स्थापना करते हैं।
  • बम्बई से ही सिरोही संदेश नामक पत्रिका का प्रकाशन किया जाता है जिसका श्रेय पंडित भीम शंकर शर्मा को है।
  • सन् 1939 में सिरोही प्रजामंडल की स्थापना होती है गोकुल भाई भट्ट को अध्यक्ष बनाया जाता है।

8. भरतपुर प्रजामंडल  

  • सन् 1912 में द्वारका प्रसाद शास्त्री और जगन्नाथ अधिकारी द्वारा हिंदी साहित्य समिति की स्थापना होती है।
  • सन् 1921 में जुगल किशोर चतुर्वेदी द्वारा भरतपुर विद्यार्थी परिषद की स्थापना होती है।

प्रजामंडल के सक्रिय नेता –
1. जुगल किशोर चतुर्वेदी
                2. गोपीलाल यादव
                3. ठाकुर देशराज
                 4. मास्टर आदित्येंद्र सिंह

                 5. सरस्वती बोहरा

  • भरतपुर में शासक किशन सिंह का काल शासन सुधार का काल कहलाता है।
  • किशन सिंह हिंदी को राज्य भाषा बनाने पर जोर देता है। और जनता के लिए सुधारवादी नीतियां अपनाता है।
  • किशन सिंह की इन नीतियों को देखकर अंग्रेज किशन सिंह को हटाकर डंकन मैकेंजी की नियुक्ति कर देते हैं।
  • सन् 1927 में भरतपुर की जनता ने किशन सिंह के समर्थन में जो आंदोलन चलाया उसे शुद्धि आंदोलन कहते हैं।
  • सन् 1938 में रेवाड़ी हरियाणा में भरतपुर प्रजामंडल की स्थापना होती है। 
  • अध्यक्ष गोपी लाल यादव को बनाया जाता है।
  • सन् 1939 में 6 से 13 अप्रैल भरतपुर में जलियांवाला बाग हत्याकांड सप्ताह मनाया जाता है।
  • उत्तमा देवी के नेतृत्व में खादी और स्वदेशी का प्रचार किया जाता है।
  • सन् 1942 में प्रजामंडल भारत छोड़ो आंदोलन में भाग लेते हैं।
  • नेता गिरफ्तारियां देते हैं। महिलाएं सरस्वती बोहरा के नेतृत्व में गिरफ्तारियां देते हैं। 

9. डूंगरपुर प्रजामंडल  

डूंगरपुर प्रजामंडल - भोगीलाल पांड्या (बागड़ के गाँधी)
  • सन् 1919 में डूंगरपुर में आदिवासी छात्रावास की स्थापना भोगीलाल पंड्या द्वारा होती है।
  • सन् 1929 में गोरी शंकर उपाध्याय द्वारा सेवा आश्रम की स्थापना होती है। इसके द्वारा सेवक नामक समाचार पत्र निकाला जाता है।
  • सन् 1935 में भोगीलाल पंड्या द्वारा हरिजन सेवा संघ की स्थापना होती है।
  • सन् 1935 में माणिक्य लाल वर्मा द्वारा खांडलोई आश्रम की स्थापना होती है।
  • सन् 1935 में भोगीलाल पंड्या और माणिक्य लाल वर्मा द्वारा बागड़ सेवा मंदिर की स्थापना होती है।
  • सन् 1938 में डूंगरपुर सेवा संघ की स्थापना होती है।
  • 26 जनवरी, 1944 को डूंगरपुर प्रजामंडल की स्थापना होती है। जिसका अध्यक्ष भोगीलाल पंड्या को बनाया जाता है।
नोट :- 
डूंगरपुर राज्य राजपुताने की एकमात्र रियासत जहां के सांसद लक्ष्मण सिंह ने शिक्षा, स्कूल, प्रैस, पत्रिका आदि पर पूर्णतः रोक लगा रखी थी।

पूनावाड़ा कांड ( 30 मई, 1947 )

  • पूनावाड़ा में मास्टर शिवराम भील स्कूल चलाते थे। राज्य के सिपाही स्कूल तोड़ देते हैं और मास्टर के साथ मारपीट करते हैं।

रास्तापाल कांड  ( 19 जून, 1947 )

  • रास्तापाल में स्कूल प्रबंधक नानाभाई खाँट की हत्या कर दी जाती है और स्कूल मास्टर सेंगाभाई को गाड़ी से बांधकर खींचा जाता है।
  • मास्टर को बचाने के लिए 13 वर्षीय भील बालिका काली बाई शहीद हो जाती है।
  • इस घटना की याद में रास्ता पाल में हर साल तारीख 21 जून को  मेला लगता है।

10. जैसलमेर प्रजामंडल  

  • जैसलमेर राजस्थान की एकमात्र रियासत है जहां के शासकों ने उत्तरदायी शासन के लिए कोई प्रयास नहीं किए।

सक्रिय नेता –
      1. सागरमल गोपा
      2. शिवशंकर गोपा
      3. मीठा लाल व्यास
      4. रघुनाथ सिंह

  • 14 नवंबर, 1930 को जैसलमेर में जवाहर दिवस मनाया जाता है।
  • सन् 1932 में जैसलमेर में माहेश्वरी युवक मंडल की स्थापना होती है।
  • आंदोलन के दौरान सागरमल गोपा की किताब जैसलमेर में गुंडाराज प्रकाशित होती है।
  • गोपा पर राजद्रोह का केस होता है।
  • सन् 1942 में गोपा गिरफ्तार होते हैं। जेल में थानेदार गुमान सिंह गोपा पर अमानवीय अत्याचार करता है।
  • सन् 1945 में जोधपुर में जैसलमेर प्रजामण्डल की स्थापना होती है।
  • अध्यक्ष मीठालाल व्यास को बनाया जाता है।
  • 4 अप्रैल, 1946 को जैसलमेर जेल में सागरमल गोपा को जिंदा जला दिया जाता है।

सागरमल गोपा की अन्य किताबें –
          1. आजादी के दीवाने
          2. रघुनाथ सिंह का मुकदमा

राजस्थान में प्रजामण्डल आन्दोलन

प्रजामण्डलस्थापना वर्षसंस्थापकटिप्पणी
जयपुर प्रजामण्डल1931, 1936 में पुनः स्थापना हुईकर्पूर चन्द्र पाटनी
 (1931), जमना लाल बजाज (1936 में)
उद्देश्य – समाज सुधार और खादी का प्रचार ; ‘महिलाएँ = दुर्गा देवी दत्त , जानकी देवी बजाज
आजाद मोर्चाअध्यक्ष बाबा हरिश्चंद्रगैर सरकारी सदस्य की नियुक्ति मनसिंह दितिय द्वारा देवी शंकर तिवाड़ी को
बूंदी प्रजामण्डल1931कान्ति लाल और नित्यानन्द25 मार्च 1948 को राजस्थान संघ में शामिल
मारवाड़ प्रजामण्डल1934जयनारायण व्यास ; प्रथम अध्यक्ष -भंवरलाल सर्राफ
बीकानेर प्रजामण्डल1936मघाराम वैद्य द्वारा (कोलकाता में)राज्य के बाहर स्थापित होने वाला प्रजामण्डल
धोलपुर प्रजामण्डल1936कृष्णदत्त पालीवाल और ज्वाला प्रसाद जिज्ञासु
मेवाड़ प्रजामण्डल24 अप्रेल 1938माणिक्य लाल वर्मा द्वारा (उदयपुर में) ; प्रथम अध्यक्ष – बलवन्त सिंह मेहता ; प्रथम अधिवेशन – उदयपुर में (1941) ; विजयलक्ष्मी पंडित और जे.पी. कृपलानी ने भाग लिया।1941 मे सर टी विजयराघवाचार्य मेवाड़ के प्रधानमंत्री ने प्रतिबंध हटाया’
भरतपुर प्रजामण्डल1938 (स्त्रोत RBSE 10th)किशन लाल जोशी और मास्टर आदित्येन्द्र
शाहपुरा प्रजामण्डल1938रमेश चन्द्र ओझा और लादूराम व्यासउत्तरदायी शासन स्थापित करने वाला प्रथम देशी राज्य शाहपुरा
किशनगढ़ प्रजामण्डल1939कांतिलाल चोथानी और जमालशाह
अलवर प्रजामण्डल1938हरिनारायण शर्मा और कुंजबिहारी मोदी
करौली प्रजामण्डल1939 (स्रोत RBSE 10th)त्रिलोकचन्द्र माथुर
कोटा प्रजामण्डल1939अभिन्न हरि और पं. नयनु राम शर्मा (कोटा में राष्ट्रीयता के जनक )
सिरोही प्रजामण्डल1939गोकुल भाई भट्ट (राजस्थान के गाँधी )
कुशलगढ़ प्रजामण्डल1942भंवर लाल निगम
बांसवाडा प्रजामण्डल1945भूपेन्द्र नाथ त्रिवेदी और हरिदेव जोशी
डूंगरपुर प्रजामण्डल1944भोगीलाल पांड्या (बागड़ के गाँधी)
प्रतापगढ़ प्रजामण्डल1945अमृत लाल पाठक और चुन्नीलाल
झालावाड प्रजामण्डल1946मांगीलाल भव्य और कन्हैया लाल मित्तल

- Advertisement -
Rajendra Choudharyhttps://majortarget.in/
Rajendra Choudhary is The Founder & CEO of Major Target & Live Times Media Pvt. Since 2019 He Started his Digital Journey and Built a Victory in The Media and Education Industry with over 5 Websites and Blogs.
- Advertisement -
- Advertisement -

Stay Connected

16,985FansLike
15,452FollowersFollow
15,456FollowersFollow
2,458FollowersFollow
61,453SubscribersSubscribe

Must Read

- Advertisement -

Related News

- Advertisement -
- Advertisement -
DMCA.com Protection Status